निर्झर किंचित की स्वरों से ,
एक आस सी मन में रहती है ,
संकल्प शक्ति की यह भावना ,
निज भाषा से रहती है !

लेकर यह अदम्य कल्पना ,
खुद को खुद पहचाना ,
अस्मितभाव की व्यंजना से ,
काव्य क्रंदन प्रति पल पाया !

निर्झर किंचित की स्वरों से ,
एक आस सी मन में रहती है,
संकल्प शक्ति की यह भावना ,
निज भाषा से रहती है !

उस असीम की करुण वेदना ,
अपने ही घर को लिये है ,
कलरव करते नव सभ्यता में ,
खुद को खोये खोये है !

निर्झर किंचित की स्वरों से ,
एक आस सी मन में रहती है
संकल्प शक्ति की यह भावना ,
निज भाषा से रहती है!

यह कविता विवेकानंद पांडेय द्वारा लिखी गई है|

[email protected]

By Admin

2 thought on “मातृभाषा”