मानव का द्वंद्व !

द्वंद्व से मानव घिरा,निज जीवन की आश में ,स्वयं को साध्य अमर्त्य मानताभौतिकता के आभास में !अधर आलिंगन में प्रकृति की ,करता रहा दीदार ,आत्म-अभिव्यक्ति के अन्तःस्थल में ,व्यक्त उद्गार का पारावार !द्वंद्व से मानव घिरा, निज जीवन की आश में !स्वर्णिम विलास की उत्कंठा से ,प्रकृति को भी साधन माना ,उस प्रकृति की विकल …

मानव का द्वंद्व ! Read More »