#story

STORY : प्यार की कहानियों में झूमता आशिक

अभी सुबह ही तो मिले थे हम उस पार्क में जहाँ हम दोनों पहली बार मिले थे। आज भी मुझे याद है जब मैं पार्क में बैठ कर गाने सुन रहा था और उसी समय वो पार्क के चक्कर लगा रही थी। उसके वो काली जीन्स और ऊपर वाइट शर्ट मुझे अजीब लगा कि व्यायाम …

STORY : प्यार की कहानियों में झूमता आशिक Read More »

कथानक आधारित कार्यक्रम और गैर कथानक आधारित कार्यक्रम

कथानक वह तत्त्व है जिसमें वर्णित कालक्रम से श्रृंखलित घटनाओं की धुरी बनकर उन्हें संगति देता है और कथा की समस्त घटनाएँ जिसके चारों और ताने बाने की तरह बुनी जाती हैं जिसमें वे बढ़ती और विकसित होती जाती हैं।कथानक कला का साधन है, अत: भावोत्तेजना लाने के लिए उसमें जीवन की प्रत्ययजनक यर्थातता के साथ आकस्मिकता का तत्त्व भी आवश्यक है। इसीलिए कथानक की घटनाएँ यथार्थ घटनाओं की यथावत्‌ अनुकृति मात्र न होकर, कला के स्वनिर्मित विधान के अनुसार संयोजित रहती हैं। कथानक देव दानव, अतिप्राकृत और अप्राकृत घटनाओं से भी निर्मित होते हैं किंतु उनका उक्त निर्माण परंपरा द्वारा स्वीकृत विधान तथा अभिप्रायों के अनुसार ही होता है।

प्यार..जो समाज को अपना बना ले

“रूपा मैं तुम्हारे मरते दम तक तुम्हारे साथ रहुंगा,और तुम्हारे साथ ही अपने जीवन का अंत करूँगा”। ये शब्द आठ साल के उस लडके द्वारा कहना,जिसको अभी प्यार की परिभाषा भी नही पता हो और उसने दुनिया और समाज में अपने कदम भी नहीं रखा हो को ऐसा कहना अजीब लगता है।पर उस लड़के के …

प्यार..जो समाज को अपना बना ले Read More »

प्यार का आँचल

शाम का समय कुछ समय मैनें सोचा की चलो पार्क में ही बैठ लिया जाए पर उसको कहा मेरा खाली बैठना मंजूर था और खास कर शांती से। उसने भी न आव देखा और न ही ताव सीधे अपने काम में लगा लिया, अब भला बताओ खाली समय में कोई काम पर बुरा ले तो …

प्यार का आँचल Read More »

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.