कश्मीरी पंडित उत्पीड़न की वो रूह कपा देने वाली सर्द रात, जिसने कश्मीरी पंडितों को अपने ही स्वदेश में पराया बना दिया

मैं एक कश्मीरी पंडित हूँ, भारतीयता के भावना का सच्चे मन से विश्वास करने वाला, इस देश का शांतिपूर्ण, अहिंसक, धर्म निरपेक्ष, शिक्षित कानून का आदर करने वाला देश भक्त नागरिक। 19 जनवरी 1990 को, मुझे अपने घर से बेघर कर दिया गया। ये मेरी कहानी है। वास्तव में हर कश्मीरी पंडित की यही दशा …

कश्मीरी पंडित उत्पीड़न की वो रूह कपा देने वाली सर्द रात, जिसने कश्मीरी पंडितों को अपने ही स्वदेश में पराया बना दिया Read More »