SHIKHAR BARANWAL

ये कुछ सवाल हैं जो ट्राइबल आर्मी (tribal army) नाम के एक ट्विटर हैंडल ( Twitter handle) से 14 feb 2022 को पोस्ट किया गया है।

ये इकलौते नहीं हैं जो ये सवाल पूछ रहे हैं, ऐसे कई tweets आपको मिल जाएंगे जिसमें ऐसे सवाल पूछे गए हैं की, 

आखिर पुलवामा हमले में कहां से इतना RDX आया था?

Advertisements
PULWAMA ATTACK PHOTO

इन आतंकवादियो का कौन मदद कर रहा था?

क्या इसमें सच में पाकिस्तान का हाथ था?

आखिर अभी तक investigation का रिपोर्ट क्यों नहीं आ रहा है?

“कुछ लोगों ने ये भी कहा की चुनाव आ गए है, मेरी आग्रह है की कृपया फिर किसी बहादुर जवान की बलि मत चढ़ा देना।”

लेकिन सच बात ये है की पुलवामा हमले पर NIA के रिपोर्ट्स आ चुके हैं,

लगभग 3 साल पहले 14 february 2019 को, पुलवामा में एक हादसा हुआ था जिसमें लगभग 40 जवान शहीद हुए थे,

ये घटना हमारे देश के लिए पिछले एक दशक में सबसे बड़ा हादसा था

लेकिन उस हमले के बाद एक बहुत बड़ा सवाल जो सभी के दिमाग में था वो ये की, देश में इतना ज्यादा RDX आया कहां से?

लगभग 1.5 साल के लंबे investivestion में National investigation agency (NIA) ने बताया की इस धमाके में इस्तमाल किए गए केमिकल्स कुछ पाकिस्तान से आया था और कुछ Amazon website से खरीदा गया था।

आइए देखते हैं, की NIA के report में क्या क्या सामने आया है?

और इसमें amazon का क्या role था?

आइए इसे विस्तार से समझते हैं

8 Feb 2019 को हमारे inteligence को आशंका होती है की कुछ बड़ा होने वाला है। इसको अफजल गुरु की फांसी की बरसी से भी जोड़ कर देखा गया था।

लगभग 11 intelligence की तरफ से alert आता है की “सतर्क रहना है” ।

लेकिन वो कहते हैं न की ” उन्हें सिर्फ एक बार जितना होता है , और हमे हर एक बार वो भी सही तरीके से”

14 february का दिन था, लगभग दिन के 3 बज रहे थे, जम्मू कश्मीर express way पर 78 CRPF bus में 2547 CRPF के जवानों का काफिला जा रहा था।

आम तौर पर जम्मू-कश्मीर express way कभी बंद होने वाला रोड नहीं है लेकिन उस वक्त भरी बर्फबारी की वजह से 1 सफ्ताह से रोड बंद था। और 14 february को ही ये रोड दोबारा सुरु हुआ था।

इस काफिले में बहुत से soldiers छुट्टी बीता कर अपने घर से लौटे ही थे।

खैर ये काफिला, सभी 78 गाड़ियों का श्रीनगर के लिए रवाना हुआ था।

तभी काफिले के बीच में एक Suzuki ECCO car सामने से आती है (यानी opposite direction से) और पांचवे no. की बस से जान बूझ कर intentionally ये कार टकरा जाती है।

उस बस में 39 जवान बैठे होते हैं। और एक जोर सा धमाका होता है ।

ये धमाका इतना बड़ा होता है की लगभग 100 m के area में सब कुछ नष्ट हो जाता हैं और इस धमाके की आवाज लगभग 30 km दूर तक महसूस होता है।

फिर उस दसक की सबसे बुरी खबर आती है की 40 जवान शहीद हो चुके हैं।

(अगर आपको याद हो तो जब ये घटना हुआ था, तो इस कार के इतने चिथड़े उड़ गए थे, की उस वक्त कुछ न्यूज में ये अंदाजा लगाया जा रहा था की SUV कार हो सकती है, और कुछ न्यूज में scarpio car बताया जा रहा था।) 

अभी देश भर ये खबर फैल ही रही होती हैं की पुलवामा में bomb blast हुआ है तभी एक और खबर आती हैं की पाकिस्तान के एक आतंकी संगठन “jaish e muhammad” के तरफ से एक video और photo आया है, जिसमें ये claim करते हैं की ये धमाका उन्ही के संगठन के आतंकवादी ने किया है जिसका नाम “आदिल अहमद दार” है।

ये वही आतंकवादी है जो Suzuki ECCO car के अंदर बैठा था और मौके पर ही उसकी भी मौत हो गई थी।

(ये जो फोटो है वो NIA के रिपोर्ट से पता चला है की यही photo और video आतंकवादियों ने इस घटना की जिम्मेदारी लेते हुए भेजा था।)

इस फोटो दिख रहे तीनो आतंकवादी अभी मारे जा चुके हैं।

इस घटना के बाद देश भर में दुःख था, आक्रोश था एक तनाव माहौल था तभी इस घटना के ठीक 12 दिन बाद 26 februray 2019 को हमारे जवानों की तरफ से बालाकोट में एक airstrike होता है।

जिसमें लगभग 300 से 350 आतंकवादी के मारे जाने की खबर आती है ।

(आपको याद होगा इसी दौरान wing commander Abhinandan का जेट fighter plane pakistan में क्रैश हुआ था।)

लेकिन इन सब के बीच एक सवाल था, जो सभी को कुरेद रहा था की किन security error की वजह से 14 february को वो ब्लास्ट हुआ था?

आखिर इतना मात्रा में RDX और chemicals कहा़ से आया था? 

एक लंबे जांच प्रक्रिया 1 साल 6 महीने 10 दिन के बाद 24 august 2020 को NIA का report आया।

NIA के जांच में ये पता चला की कुल 19 आतंकवादी इस हमले में सामिल थे।

7 पाकिस्तान के आतंकवादी थे , बाकी 12 j&k के अलग अलग हिस्से से थे, जो पाकिस्तानी आतंकी संगठनो से जुड़ हुए थे।

इन सभी 19 आतंकवादियों के नाम निम्नलिखित हैं

The 19 people named by the NIA in its charge sheet are:

1. Masood Azhar Alvi, 52 years, r/o, Pakistani national

2. Rouf Asgar Alvi, 47 years r/o, Pakistani national

3. Ammar Alvi, 46 years, r/o Pakistani national

4. Shakir Bashir, 24 Years,  r/o Kakapora, Pulwama, J&K.

5. Insha Jan, 22 Years r/o Kakapora, Pulwama, J&K

6. Peer Tariq Ahmed Shah, 53 Years, r/o Kakapora, Pulwama, J&K

7. Waiz-ul-Islam, 20 Years, r/o Srinagar, J&K

8. Mohd Abbas Rather, 31 Years, r/o Kakapura, Pulwama, J&K.

9. Bilal Ahmed Kuchhey, 28 years, r/o Hajibal, Lalhar, Pulwama, J&K

10. Mohd Iqbal Rather, 25 years, r/o, Charar-e-Shareef, Budgam, J&K.

11. Mohd Ismail, 25 years, r/o Pakistani national.

12. Sameer Ahmad Dar, 22 years, r/o Kakapora, Pulwama, Kashmir

13. Ashaq Ahmed Nengroo, 33 years, r/o Rajpura, Pulwama

14. Adil Ahmed Dar, 21 years, r/o Kakapora, Pulwama, Kashmir (Killed)

15. Muhammad Umar Farooq, 24 years, r/o Pakistani national (Killed)

16. Mohd Kamran Ali, 25 years, r/o Pakistani national (Killed)

17. Sajjad Ahmed Bhat, 19 years, r/o Bijbehera, Anantnag (Killed)

18. Mudasir Ahmad Khan, 24 years, r/o Awantipura, Pulwama (Killed)

19. Qari Yasir, r/o Pakistani national (Killed)

इन 19 में से 6 terrorist अलग अलग घटनाओं (जैसे मुठभेड़ में या encounter में)  मारे जा चुके थे ।

इस पूरे प्लान का मास्टर माइंड, मशूद अज़हर समेत 4 आतंकवादी अभी भी फरार हैं।

बाकी 7 जेल में हैं।

NIA के मुताबिक Improvised explosive device यानी IED कुल 2 क्विंटल  का था, जिसमें से 35 kg High grade RDX था, 

अब आइए जानते हैं  की इतना ज्यादा RDX देश में आया कहां से ?

असल में इस हमले की तैयारी 2018 से ही चल रही थी, और 5 पाकिस्तानी आतंकवादी देश में घुसपैठ किए थे, और ये सभी रात के समय में 3 – 4 महीने में कई पार्ट में इन RDX को भारत में इकट्ठा किए थे।

यानी की इस धमाके में use होने वाला RDX पाकिस्तान से आया था।

Report में ये भी mention है की IED यानी bomb बनाने के लिए बहुत सी चीजे amazon website से खरीदी गई थी।

जैसे – अमोनियम पाउडर, बैटरी chemicals, phones , कपड़े wagarah.

मतलब जरा सोच कर देखिए की जिस website से हम रोजमर्रा के इस्तेमाल वाले समान खरीदते हैं उस वेबसाइट से bomb बनाने वाले समान भी खरीदे जा सकते हैं।

NIA report के कुछ और खास बात –

1- ये घटना पहले 6 फरवरी को ही प्लान किया गया था, लेकिन मौसम खराब होने की वजह से उनका प्लान fail हो गया था।

2- इस report में ऐसे बहुत से proof हैं, जो एक बार नही बल्कि कई बार ये साबित करता है इसमें पाकिस्तान का था।

3- ये chargesheet रिपोर्ट कुल 13,500 page में NIA ने release किया है, और इस investigation में FBI ने भी NIA का मदद किया था।

और 4 और आखिरी बात की इस पूरे प्लान का जो master mind था, मशूद अज़हर।

 ये उन्हीं चारों में एक आतंकवादी है जिसे 1999 में plane hijack होने की वजह से भारत को लौटाना पड़ा था।

By Admin

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.