भारत में शौक के मामले में ऐसे कई राजा हुए हैं, जिनके शौक के आगे अंग्रेज़ो के शौक कुछ नही थे। भारत के ऐसे ही एक शौकिया राजा थे महाराज जयसिंह प्रभाकर। 1920 के आस-पास राजा जय सिंह लंदन गए थे। लंदन में वे सामान्य वस्त्रों में थे। न ही राजा की कोई पोशाक ,न ही कोई हीरे-जवाहरात और न ही साथ में कोई नौकर। राजा अकेले लंदन में घूम रहे थे।

photo by social media

वहीं उन्हें rolls royace कार का एक शोरूम दिखाई दिया। राजा ने रोल्स रॉयस लेने का फैंसला किया और शोरूम के अंदर चले गए और जाकर गाड़ी देखने लगे। सेल्समैन को लगा कि वो कोई गरीब भारतीय है जो केवल देखने आए हैं। सेल्समैन ने राजा को कार के बारे में कुछ न बताया और उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया।

राजा को बहुत गुस्सा आया लेकिन वो शांति से बिना कुछ कहे, वहां से चले गए। राजा अब अपने अपमान का बदला अपमान से ही लेना चाहते थे। राजा अपने होटल गए, राजा की पोशाख पहनी और उनके नौकरों ने शोरूम में खबर पहुँचाई कि अलवर के महाराज यहाँ गाड़ी खरीदने आ रहे हैं।

खबर सुनते ही उनके आने के स्वागत में रेड कारपेट बिछा दिया गया और जब राजा आये तो सब उनके सामने झुक गए। राजा ने वहाँ 7 सबसे महंगी गाड़ियों का आर्डर दिया और साथ मे सबके पैसे एक बार मे चुका दिए। इतना बड़ा आर्डर देख सभी हैरान और भौचक्के रह गए।

Advertisements

राजा ने कहा कि ये सारी गाड़ियां भारत मे मेरे राजमहल तक पहुँचा दिया जाए और साथ मे उस घमंडी सेल्समैन को भी।

गाड़ी जैसे ही भारत आई, राजा ने सारी गाड़ियां नगर पालिका को दे दी और कहा कि, आज से शहर का सारा कचरा इन्ही गाड़ियों में उठाया जाएगा।

ये सुनते ही सेल्समैन चौक गया। ये खबर पूरे विश्व मे फैल गयी कि इतनी महंगी गाड़ी को कोई कचरा गाड़ी कैसे बना सकता है। rolls-royce के ग्राहक इस खबर से दुखी होने लगे क्योंकि इस गाड़ी को अब लोग कचरे की गाड़ी से तुलना करने लगे थे। जिस गाड़ी में भारत अपना कचरा रखता हो आखिर वो गाड़ी कोई क्यों लेगा? जिसके चलते रोल्स रॉयस का मार्केट अब नीचे आने लगा।

राजा का बदला लेने का प्लान पूरी तरह से काम कर गया। कंपनी के तरफ से राजा को एक लेटर आया जिसमें उन्होंने राजा से माफ़ी मांगी और उनसे गुजारिश की कि, हमारी गाड़ियों से कचरा उठवाने का फरमान रद्द कर दें।इसके बदले में वे राजा को 6 नई रॉल्स रॉयस भी मुफ्त में देने का वादा किया। राजा ने कंपनी को माफ कर दिया और दुनिया को एक सबक सिखाया कि, किसी व्यक्ति को उसके कपड़ो या स्थित से जांचना नहीं चाहिए।

By Admin

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.