Tag: #poem

जीवन ka सार

अंतड़ियों में जकड़ है, पर मन में खटास है,, एक पल की जिंदगी में, न घर है और न घनश्याम है,, जीने की चाहत है, पर किराए की किल्लत है,,…

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.