ग्राफ़िक्स

ग्राफ़िक्स सूचनाओं और चित्रों का मिला जुला रूप होता है। यह फोटो से भिन्न होता है। यद्यपि यह भी समाचार अथवा घटनाक्रम पर ही आधारित होता है। लेकिन इसके चित्र हाथ अथवा कंप्यूटर से बनाये जाते हैं। फ़ोटो में सूचनाएं ऊपर नहीं दी जाती हैं जबकि, ग्राफ़िक्स में सूचनाएं चित्रों में अथवा चित्र के साथ ही दे दी जाती हैं।वर्तमान में बड़ी घटनाओं के साथ ग्राफ़िक्स अवश्य दिया जाता है। एक छोटे से ग्राफ़िक्स के माध्यम से बहुत सारी सूचनाएं और आंकड़े एक साथ बड़ी आसानी से प्रदर्शित कर दिए जाते हैं।

कार्टून (व्यंग्य चित्र)

अखबारों में प्रायः मुख्य रूप से दो प्रकार के दो प्रकार के व्यंग्य चित्र या कार्टून छपते हैं, एक तो समाचारों पर आधारित और दूसरे मनोरंजन के लिए। समाचारों पर आधारित कार्टून सिंगल बॉक्स अर्थात एक घेरे में होते हैं। शुद्ध मनोरंजन वाले कार्टून एक से अधिक बॉक्स के भी हो सकते हैं।

समाचारों पर आधारित कार्टून प्रायः अखबार के मुख्य पृष्ठ पर प्रकाशित किए जाते हैं और इनका स्थान हर अखबार में अपने अपने हिसाब से निर्धारित होता है।

समाचारों पर आधारित कार्टून अखबार की संपादकीय टिप्पणियों, लेखों और फ़ोटो की तरह ही महत्वपूर्ण होता है। एक छोटे से कार्टून के माध्यम से किसी घटनाक्रम पर जितनी टीका-टिप्पड़ी की जा सकती है वह शायद ही, आधे पृष्ठ के लेख में हो पाए। कई बार एक कार्टून के दो शब्द बहुत सारी टिप्पड़ियों पर भारी पड़ जाते हैं।

Advertisements

फ़ोटो

अखबारों में प्रकाशित होने वाले फोटो का महत्व भी समाचारों से कम नहीं होता है। फोटो का महत्व इसी बात से समझा जा सकता है कि एक फोटो हजारों शब्दों से भारी होता है। अखबार में छपने वाली फोटो अपने आप में एक समाचार लिए हुए होती है। कई बार हम सब ने देखा है कि अखबार में सिर्फ फोटो को छापा गया है और उसके नीचे दो तीन पंक्तियों की सूचना छपी है। इसके अलावा समाचार के साथ छपने वाले फोटो के माध्यम से ना सिर्फ उस घटना की प्रामाणिकता का पता चलता है बल्कि उस समाचार के बहुत सारे पहलुओं की जानकारी भी आसानी से मिल जाती है।

फोटो देखने के बाद घटना के समाचार को विस्तार से, पढ़ने की भूख भी पैदा करने का काम यह करती है। इस तरह फोटो जहां अपने आप में एक समाचार है वहीं दूसरी तरफ एक महत्वपूर्ण समाचार का पूरक और सहायक भी है। जिसकी वजह से फोटो को अखबार का एक अनिवार्य अंग माना गया है।

फ़ोटो कार्टून और ग्राफ़िक्स का चयन क्यों किया जाता है?

  • फोटो कार्टून और ग्राफ़िक्स का चयन इसलिए किया जाता है क्योंकि लोग पढ़ने से ज्यादा देखना पसंद करते हैं।
  • ऐसा समय की कमी के कारण भी किया जाता है।
  • ग्राफिक का प्रयोग इसलिए भी किया जाता है क्योंकि वह लेख से ज्यादा आसान होते हैं और पढ़ने से ज्यादा लोग देखना पसंद करते हैं।
  • ग्राहक का इस्तेमाल क्राइम से जुड़ी खबरों में ज्यादा किया जाता है ताकि खबर से। संबंधित स्पष्टता बनी रहे।
  • अखबारों को आकर्षित बनाने के लिए भी इनका प्रयोग किया जाता है।

By Admin

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.