happy woman video chatting on laptop in kitchen

स्त्रीत्व

By anshu saw यह सोच कर कभी -कभी मेरी स्त्रीत्व भी शरमा जाती है कि, बिना कुछ सोचे बिना कुछ समझे… अपनी ही जाति के लिए हमारी उंगलियां… कैसे उठ जाती हैं? हां जाति से मेरा मतलब ,,, मैं चार वर्ग नहीं बताती।पुरुष और महिला है, मेरी नज़रे तो बस इतना ही विभाजन देख पाती …

स्त्रीत्व Read More »