#संपादन

गांधीवाद की प्रासंगिकता

गांधीवादी विचारधारा का प्रभाव समाज के प्रत्येक वर्ग में देखने को मिलता है , चाहे वह भारत में हो या वैश्वीक स्तर पर । उनके दर्शन में लगभग सभी बुराइयों ( राजनीतिक, सामाजार्थिक ,सांस्कृतिक , आध्यात्मिक,पर्यावरणीय आदि ) का निवारण है । आज विश्व में प्रत्येक राष्ट्र स्वयं को आधुनिकता की दौड़ में सबसे आगे …

गांधीवाद की प्रासंगिकता Read More »

समाचार पत्र एवं पत्रिका का संपादन

दैनिक समाचार पत्रों का संपादन दैनिक समाचार, न्यूज डेस्क पर आते हैं, ये समाचार टेलीप्रिंटर , टेलीफोन, तार, टेलीफैक्स और साधारण डाक से प्राप्त होते हैं। मुख्य उप संपादक, टेलीप्रिंटर से प्राप्त समाचारों को छातने के पश्चात , उप संपादकों में समाचारों को बांट देता है। इसी तरह तार, टेलीफैक्स और डाक से प्राप्त समाचार …

समाचार पत्र एवं पत्रिका का संपादन Read More »

Samachar agency ke prati ka sampadan

समाचार एजेंसी किसी भी समाचार पत्र के लिए खबरों का प्रमुख स्त्रोत होती हैं। इन स्त्रोतों में उसके अपने स्टाफ रिपोर्टर, रूपक लेखक और फोटोग्राफर शामिल होते हैं, तो दूर दराज के क्षेत्रों में कार्यरत संवाददाता और स्ट्रिंगर भी शामिल होते हैं। सभी स्त्रोतों से जानकारी व समाचार प्राप्त करने के बाद समाचार एजेंसी समाचार …

Samachar agency ke prati ka sampadan Read More »

संपादन का अर्थ, उद्देश्य, महत्व और संपादन में पुनर्लेखन

संपादन का अर्थ है किसी लेख पुस्तक, साप्ताहिक, मासिक पत्र या कविता के पाठ, भाषा, भाव या क्रम को व्यवस्थित करके तथा आवश्यकतानुसार उसमें संशोधन, परिवर्तन करके उसे सार्वजनिक प्रयोग अथवा प्रकाशन के योग्य बनाना। लेख और पुस्तक के संपादन में भाषा , भाव तथा क्रम के साथ-साथ उसमें आए हुए तथ्य एवं पाठ का …

संपादन का अर्थ, उद्देश्य, महत्व और संपादन में पुनर्लेखन Read More »

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.