Tag: #आजतक

कल भी सूरज निकलेगा कल भी पंछी गाएंगे

कल भी सूरज निकलेगाकल भी पंछी गाएंगेसब तुझको दिखाई देंगेपर हम न नज़र आएंगे। ………….. 1982 में आई फ़िल्म ‘प्रेमरोग’ का ये गीत जिसे संन्तोष आंनद जी ने लिखा था,…

ग्लोबल मीडिया के अंतर्गत वैश्विक सूचना प्रवाह का स्वरूप

वैश्विक स्तर पर मौजूद सूचना तंत्र ग्लोबल मीडिया कहलाता है। ज्यादातर लोगों को इन मुद्दों के बारे में अखबारों, पत्रिकाओं, रेडियो, टेलीविजन, और वर्ल्ड वाइड वेब की रोजमर्रा के समझ…

पिंगली वेंकैया : जिन्होंने भारत का राष्ट्रीय ध्वज बनाने से पहले 30 देशों के राष्ट्रीय ध्वजों का किया अध्ययन

राष्ट्रीय ध्वज किसी भी देश की आन,बान, सान होता है। इसके लिए लोग अपनी जान की बाजी लगाने में भी अपना स्वाभिमान मानते है। इसको सामने देखते है मन गदगद…

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.