Category: Religious

मुहर्रम(MUHARRAM) का पहला दिन मोहम्मद शादान अयाज़ के शब्दों में

आज मुहर्रम की पहली तारीख है यानी इस्लामिक कैलेंडर(FIRST DAY OF ISLAMIC CALENDER) का पहला दिन। आज से नया साल 1444 शुरू हुआ। हजरत उमर इब्ने खत्ताब र. अ. ने…

श्री दुर्गा नवरात्र व्रत कथा, जाप मंत्र और आरती

व्रत की विधि प्रात: नित्यकर्म से निवृत हो, स्नान कर, मंदिर में या घर पर ही नवरात्र में दुर्गा जी का ध्यान करके यह कथा करनी चाहिए। कन्याओं के लिए…

पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी से खाड़ी देशों में नाराजगी

पैग़ंबर मोहम्मद पर भारतीय जनता पार्टी की नेता नूपुर शर्मा के विवादित बयान को लेकर क़तर ने जो नाराज़गी जताई है, इसी के साथ साथ कुवैत और ईरान ने भी…

Happy Navaratri:- देवी माता के नौं रूपों की सम्पूर्ण जानकारी

हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार नवदुर्गा में, माता दुर्गा और माता पार्वती के नौ रूपों को एक साथ जोड़कर कहा जाता है। हर देवी के अलग-अलग वाहन हैं, अस्त्र-सस्त्र…

भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए माँ पार्वती ने कहाँ किया था कठोर तप? आइए जानते हैं…

मां पार्वती ने जिस स्थान पर भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की थी वह जगह गौरीकुंड है। जोकि केदारनाथ के समीप है। गौरीकुंड एक…

कहाँ पर ऐसा मंदिर है जो श्रद्धालुओं को दर्शन देने के बाद समुद्र में समा जाता है?!

गुजरात के भावनगर में कोलियाक तट से तीन किलोमीटर अंदर अरब सागर में स्थित है, निष्कलंक महादेव। यहाँ पर अरब सागर की लहरें रोज शिवलिंगों का जलाभिषेक करती हैं। लोग…

कालनेमी कौन था, हनुमान जी ने उसका वध क्यों किया?

उत्तरप्रदेश के सुल्तानपुर जिले की कादीपुर तहसील में बीजेथुआ नामक स्थान पर स्थित है हनुमान जी का वह मंदिर जिसके बारे में कहा जाता है कि यहीं महाबली हनुमान ने…

भगवान शिव को कौन सर्वाधिक प्रिय है?!

वैसे तो महादेव सभी के प्रिय हैं परंतु फिर भी यह बताने का प्रयास करूंगा कि उन्हें कौन प्रिय है। देवियों में देवी पार्वती, देवताओं में विष्णु, ब्राम्हणों में शुक्राचार्य…

भगवान विष्णु के 24 अवतारों में से छठे स्थान पर हैं भगवान दत्तात्रेय… आईए उनके जीवन के बारे में जानते हैं

भगवान दत्तात्रेय की जयंती मार्गशीर्ष माह में मनाई जाती है। दत्तात्रेय में ईश्वर और गुरु दोनों के रूप समाहित हैं इसीलिए उन्हें ‘परब्रह्ममूर्ति सद्गुरु’ और ‘श्रीगुरुदेवदत्त’भी कहा जाता हैं। उन्हें…

क्यों करते हैं चारधाम यात्रा? जानिए क्या है इसका धार्मिक महत्व।

धर्मग्रंथों के अनुसार जो लोग चारधाम के दर्शन करने में सफल होते हैं, उनके न केवल इस जन्म के पाप नष्ट हो जाते हैं, बल्कि वे जीवन-मृत्यु के बंधन से…

पद्मनाभ स्वामी मंदिर के सातवें दरवाजे को क्यो नहीं खोला जा सका? क्या है इसके पीछे का रहस्य

भारत के केरल राज्य की राजधानी, तिरुवनंतपुरम के पूर्वी किले के भीतर स्थित श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर भगवान विष्णु का मंदिर है। यह मंदिर केरल और द्रविड़ वास्तुशिल्प शैली का अनुपम…

Mahamrityunjaya Mantra: भगवान शंकर का अमोघ मंत्र

भगवान शंकर का अमोघ मंत्र है, “महामृत्युंजय मंत्र”,इसे सिद्ध कर लेने पर मनुष्य की अकाल मृत्यु नहीं होती है। यह मंत्र महान ऋषि मार्कण्डेय द्वारा रचा गया है। यह महामृत्युंजय…

कौरवों की एक बहन भी थी! क्या आपको पता है? महाभारत के इस रहस्य के बारे में

महाभारत की कहानी पूरी तरह से कौरवों और पांडवों पर आधारित हैं और उनके बीच हुए युद्ध के बारे में बताती है। महाभारत में कौरव के वंशजों के बारे में…

ॐ पर्वत

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार ब्रह्मांड का सृजन और उसके विनाश का जिम्मा संभालने वाले भगवान शिव कैलाश पर्वत पर अपने परिवार के साथ निवास करते हैं। भगवान शिव को…

बद्रीनाथ मंदिर में शंख न बजाने का आखिर क्या है कारण?

हिन्दू धर्म में किसी भी शुभ कार्य करने,पूजा-पाठ करने आदि कार्यों के करने के दौरान शंख बजाने की प्रथा रही है, लेकिन क्या आपको पता है कि एक बद्रीनाथ ही…

ब्रम्हा, विष्णु, महेश की उत्पत्ति कैसे हुई? आइए जानते हैं।

हिन्दू धर्म मे त्रिदेव ब्रम्हा, विष्णु और महेश को सभी देवताओं में सबसे श्रेष्ठ और पूजनीय माना जाता है। जिसमें ब्रम्हा देव को सृष्टि का रचनाकार, श्री हरि विष्णु को…

Bhagwan Shiv ki Teesri Aankh

भगवान शिव को अक्सर एक तीसरी आंख से दर्शाया जाता है और उन्हें त्रयंबकम, त्रिनेत्र आदि कहा जाता है । तीसरी आंख शिव भक्तों के लिए ज्ञान की दृष्टि विकसित…

केदारनाथ को ‘जागृत महादेव ‘ क्यों कहते हैं?

केदारनाथ के दर्शन करने के लिए भक्त साल भर का इंतेजार करते हैं। केदारनाथ की चढ़ाई को बेहद ही मुश्किल माना जाता है, लेकिन ऐसा कहा जाता है कि भोले…

Tirupati temple.. kahani aur mystery

कहाँ पर स्थित है यह मंदिर तिरुपति भारत के सबसे प्रसिद्ध तीर्थस्थलों में से एक है। यह आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में स्थित है। प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में दर्शनार्थी यहां आते हैं। समुद्र तल से…

बाबा भोलेनाथ का बसंत पंचमी पर तिलकोत्सव

वाराणसी,16 फरवरी। आज 357 वांं बाबा विश्वनाथ का तिलकोत्सव धूम-धाम से मनाने की तैयारी पूरी हो गयी है। राग विराग की नगरी काशी में महंत आवास में, बसंत पंचमी पर…

वाराणसी: बाबा विश्वनाथ की सजेगी दरबार, सड़क से दिखेगा भव्य स्वरूप

श्री काशी विश्वनाथ मंदिर का दायरा बढ़ने के बाद यह अब नए स्वरूप में भक्तों के सामने होगा। शिव कचहरी समेत आसपास के सभी मंदिरों को बाबा दरबार के परिसर…

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.