Category: hindi journalism and mass communication

संपादकीय लेखन

संपादकीय लेखन कला का सैद्धांतिक एवं व्यवहारिक दस्तावेज है क्योंकि प्रत्येक समाचार पत्र या पत्रिका के कुछ ऐसे मूलभूत सिद्धांत होते हैं, जिनका पालन नीति निर्देशक तत्वों के रूप में…

पत्रकारिता के क्षेत्र में उपसंपादक के कार्यों का वर्णन कीजिए ?

उप संपादक किसी भी समाचार पत्र के लिए रीढ़ की हड्डी है। दैनिक कार्यों को निष्पादित करना मुश्किल होता है। परंतु ये लोग समाचार पत्र का संपादन, टाइपिंग, शीर्षक लगाना,…

संपादकीय विभाग का ढाँचा

प्रधान संपादक:- संपादकीय विभाग का प्रमुख व किसी भी समाचार पत्र या पत्रिका के नीति को निर्धारित करने वाले को, प्रधान संपादक/महासम्पदाक/संपादक कहा जाता है। समाचार पत्र-पत्रिका के बारे में…

न्यूज़पेपर में समाचार की संरचना का विस्तार से वर्णन करें

न्यूज़ पेपर में समाचार संरचना की बात करें तो सबसे पहले शीर्षक लिखा जाता है, फिर तिथि। इसके बाद सूत्र संकेत, क्रेडिट लाइन , आमुख/इंट्रो, जिसमें क्या हुआ का उत्तर…

पर्यावरण के विविध पक्ष और मीडिया

पर्यावरण शब्द का निर्माण दो शब्दों से मिलकर हुआ है। परि और आवरण, “परि” जो हमारे चारों ओर है “आवरण” जो हमें चारों ओर से घेरे हुए है,अर्थात पर्यावरण का…

घरेलू हिंसा

हिंसा एक ऐसा घोर अपराध है जो किसी भी रूप में स्वीकार्य नहीं है। यहाँ हिंसा से तात्पर्य किसी पर मनचाहा दबाव बनाना, अपने शक्तियों का गलत प्रयोग करना, प्रताणित…

संपादन तकनीक में संपादकीय नीति और स्टाइल शीट

प्रत्येक समाचार पत्र के अपनी एक नीति होती है, एक रूप रेखा होती है जिसको समक्ष रखकर समाचार लेखक आगे बढ़ता है, सीधे शब्दों में कहे तो संपादकीय नीति वह…

संपादकीय लेखन और उनका आयोजन

‘संपादकीय’ का सामान्य अर्थ है समाचार पत्र के संपादक के अपने विचार, जिसमें संपादक प्रत्येक दिन ज्वलंत विषयों पर अपने विचार व्यक्त करता है। संपादकीय लेख समाचार पत्रों की नीति,…

संपादकीय पृष्ठ की संरचना

जिस प्रकार प्रत्येक समाचार पत्र में एक प्रमुख समाचार पृष्ठ होता है, उसी प्रकार प्रत्येक समाचार पत्र में संपादकीय पृष्ठ भी होता है। संपादकीय पृष्ठ सामान्य रूप से समाचार पत्र…

समाचार संपादन में पृष्ठ सज्जा का महत्व

पृष्ठ सज्जा:- चाहे प्रथम पृष्ठ हो या अंतिम पृष्ठ हो, किसी भी समाचार पत्र या पत्रिका में बहुत महत्व रखती है क्योंकि इसकी तुलना लंच या डिनर के लिए सजाए…

समाचार संपादन में ग्राफ़िक्स, कार्टून और फ़ोटो का चयन

ग्राफ़िक्स ग्राफ़िक्स सूचनाओं और चित्रों का मिला जुला रूप होता है। यह फोटो से भिन्न होता है। यद्यपि यह भी समाचार अथवा घटनाक्रम पर ही आधारित होता है। लेकिन इसके…

Shirshak lekhan ke siddhant

शीर्षक समाचार पत्र का सारतत्व उदघोषिक करने वाली पंक्ति अर्ध, अर्ध पंक्ति अथवा पद समूह है। प्रेमनाथ चतुर्वेदी के मतानुसार:- शीर्षक समाचार पत्र का प्राण और उसके सार का विज्ञापन…

कॉपी संपादन (प्रति संपादन)

कॉपी संपादन वह क्रिया है जिसके द्वारा कोई भी संपादक या उपसंपादक लिखित सामग्री में विभिन्न तरह के सुधार और बदलाव करता है। प्रति या कॉपी उस लिखित सामग्री को…

समाचार पत्र एवं पत्रिका का संपादन

दैनिक समाचार पत्रों का संपादन दैनिक समाचार, न्यूज डेस्क पर आते हैं, ये समाचार टेलीप्रिंटर , टेलीफोन, तार, टेलीफैक्स और साधारण डाक से प्राप्त होते हैं। मुख्य उप संपादक, टेलीप्रिंटर…

पत्रकारिता जगत में संपादन के siddhant की जरूरत

संपादन का अर्थ है किसी सामग्री से उसकी अशुद्धियों को दूर करके उसे पढ़ने लायक बनाना। एक उप संपादक अपने रिपोर्ट की खबरों को ध्यान से पड़ता है और उसकी…

Samachar agency ke prati ka sampadan

समाचार एजेंसी किसी भी समाचार पत्र के लिए खबरों का प्रमुख स्त्रोत होती हैं। इन स्त्रोतों में उसके अपने स्टाफ रिपोर्टर, रूपक लेखक और फोटोग्राफर शामिल होते हैं, तो दूर…

संपादन का अर्थ, उद्देश्य, महत्व और संपादन में पुनर्लेखन

संपादन का अर्थ है किसी लेख पुस्तक, साप्ताहिक, मासिक पत्र या कविता के पाठ, भाषा, भाव या क्रम को व्यवस्थित करके तथा आवश्यकतानुसार उसमें संशोधन, परिवर्तन करके उसे सार्वजनिक प्रयोग…

पत्रकारिता एंट्रेन्स exam में पूछे जाने वाले महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

बंगाल गजट का प्रकाशन वर्ष 1780 ई. है। लोकतंत्र का चौथा स्तंभ पत्रकारिता है। ‘हम लोग’ कार्यक्रम का संबंध एनडीटीवी से है। ‘हल्ला बोल’ कार्यक्रम का संबंध आज तक से…

Radio का इतिहास और विकास यात्रा

वर्तमान समय में संचार के अन्य माध्यमों के आने से बेशक आज रेडियो एक सशक्त माध्यम के रूप में न समझा जाता हो पर आज भी यह माध्यम सूचनाओं के…

टेलीविजन का इतिहास भारत के संदर्भ में

विश्व मे टेलीविजन का इतिहास W3XK, चारलेस फ्रेंचिस जेन्किस ने जुलाई 2, 1928 को पहला व्यापारिक लाइसेंस्ड टेलीविज़न स्टेशन यूनाइटेड स्टेट में बनाया । 1936 में बर्लिन में हुए समर…

History of journalism in India | भारत में पत्रकारिता का इतिहास

आज भारत में पत्रकारिता को शुरू हुए दो शताब्दियों से भी ज्यादा का समय हो रहा है। पर आपको क्या पता है कि आखिर किसने भारत मे पत्रकारिता का सुभारम्भ…

आंतरिक, बाह्य व निजी जनसम्पर्क क्या है विस्तार से बताइए

आंतरिक जनसम्पर्क आन्तरिक जनसम्पर्क वे हैं जो कंपनी और उसके कर्मचारियों के बीच संबंधों को मजबूत बनाने, एक अच्छे संचार वातावरण को सुविधाजनक बनाने और किए गए प्रत्येक प्रतिविधियों में…

जनसम्पर्क अभियान

जनसंपर्क अभियान का सीधा अर्थ है ‘जनता से संपर्क रखना।’ जनसंपर्क एक प्रक्रिया है जो एक उद्देश्य से व्यक्ति या वस्तु की छवि, महत्व एवं विश्वास को समूह अथवा समाज…

जनसंपर्क अधिकारी : गुण, कार्य और महत्व

जनसंपर्क संचार की एक प्रक्रिया है, जिसमे जनता से संचार स्थापित किया जाता है। जनसंपर्क द्वारा जनता से संपर्क स्थापित करके लक्षित उद्देश्यों को पूरा किया जाता है। ये उद्देश्य…

जनसंपर्क की अवधारणा और अर्थ क्या है

मानव का जबसे विकास होना शुरू हुआ है चाहे वह आदिमानव का ही समय क्यो ही न हो उनमें संपर्क करने की आवश्यकता अवश्य रही होगी, नहीं तो आज मानव…

कथानक आधारित कार्यक्रम और गैर कथानक आधारित कार्यक्रम

कथानक वह तत्त्व है जिसमें वर्णित कालक्रम से श्रृंखलित घटनाओं की धुरी बनकर उन्हें संगति देता है और कथा की समस्त घटनाएँ जिसके चारों और ताने बाने की तरह बुनी…

टेलीविजन स्टूडियो की संरचना और समाचार कक्ष की संरचना

टेलीविज़न स्टूडियो जिसे टेलीविजन प्रोडक्शन स्टूडियो कहा भी जाता है एक ऐसा कक्ष है जहाँ ऐसे शो, कार्यक्रम, बनाये जाते हैं जो टीवी पर प्रसारित होने वाले है या प्रसारित…

समाचार के तत्व, चयन की प्रक्रिया, लेखन कौशल और संकलन

वर्तमान युग में देखा जाए तो समाचार कोई नया शब्द नहीं है जो शब्दकोश से निकल कर हमारे समक्ष आया हो, असल मे समाचार का विकास मानव विकास के साथ-साथ…

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.