जीवन में माँ की भूमिका

माँ, तुम हो मेरी परमेश्वर,

मुझको संभालती हो हमेशा,

तुमने सब कुछ दिया है मुझे इस जीवन में,

मुझको सफल बनाने के लिए मुझे स्वस्थ बनाया है.

तुमने मुझे दुख-दर्द सहना सिखाया है,

किसी के कष्टों को समझना सिखाया है,

और उनके दुखों को कैसे हरना है बताया है,

जिसने काम करने के लिए मुझे सफल बनाया है.

माँ, तुमने मुझे सिखाया है कर्म करने के लिए,

सक्रिय रहकर सफलता के पथ पर चलने के लिए,

मां, तुम हमेशा मेरे साथ होगी।

तुमने सब-कुछ समझा है,

समस्याओं में निर्भीक बने रहने के लिए,

परेशानियों से प्रेरित होने के लिए,

जिसने मेरा जीवन सफल बनाया है,

माँ, तुम हमेशा मेरी सहायक रहोगी।

जब भी मैं कुछ परेशानियों से गुजरता हूँ,

तुम औषधि की तरह दुख हर जाती हो,

मां, तुम हमेशा मेरी सहायक रहोगी,

और मुझपर अपना प्यार बरसाती रहोगी।

माँ, तुमने मुझे सिखाया है

कि सम्मान कैसे प्राप्त किया जाता है,

माँ, मेरे साथियों से सम्मान दिलवाने के लिए,

और सम्मान की परिभाषा को समझाने के लिए,

मुश्किल कामों में राह निकालने के लिए.

मां, तुम हमेशा मेरी सहायक रहोगी,

मां, तुम सबको समझाती हो,

प्रत्येक समस्याओं का हल रखती हो,

तुम सबको सफल होने के लिए प्रेरित करती,

मां, तुम हमेशा मेरे साथ होगी।

मां, तुम हमेशा मेरे साथ होगी।

READ MORE

By Admin

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.