The Development of Photography

Photography (The Development of Photography) was invented about 160 years ago, but the principles are even older than that, on the basis of which photographs can be made from film on paper by chemical process by taking a picture with a camera.  This is a completely scientific method, through which we can make the same picture as we see with our own eyes.  (Photo in Greek language means light and graph means picture (Sketch). Thus, photography is such a scientific medium, through which we can prepare photos using light.  I)

The Development of Photography
Photo by Alex Andrews on Pexels.com

We can mainly divide the history of the invention of photography into four parts.  The first part is from 500 years BC to 1815.  Over the years, while on the one hand many techniques were discovered due to the curiosity to understand the method of making a picture by optical principles, on the other hand, the possibilities of making a picture by chemical process with the rays of light were also explored. 

The second part dates from 1816 to 1879, when chemical processes called talbotypes and daguerreotypes were invented, which produced paper on which positives could be made.  The third part of the history of photography is considered to be from 1880 to 1935.  Over the years, processes such as lens, film, printing paper, photographic emulsion and photo preparation with artificial light were used.  After 1935 the modern era of photography started and the development of photography started very fast.  Leonardo da Vinci Camera Obsura. 

In Arabia, it is believed that from 500 BC to 1088, China, Greece and Arabia have been investigating at different levels why light passing through a small hole turns the picture upside down.  Thus, among the inventions being made for photography, the first attention was paid to the inventions of the camera.  

Advertisements

In 1030, Alhazen of Arabia gave information about such a device, which later came to be called camera.  From the detailed description given by him, it seemed that people in Arabia knew about it even before that.  In 1550, G. Gardeno used a lens instead of the pin hole, through which the image was formed inverted when light entered.  In 1558 Giovanni Battista of Naples first detailed the camera obscura and described it as important to painters and artists because they could make pictures taken with this camera. 

“Camera obscura is a Greek word, camera meaning. That thing, which is covered with an arc from above. In the beginning the camera obscura was a dark room or a very large box like a tent, in which light can come.  There was a small hole for it. The lens was later put in, and this hole or lens began to form an inverted picture on the wall on the other side. In 1558, Daniel Barbaro of Venice (Daniel Barbaro) on both sides outward  Biconvex lens and a thin membrane (Diaphragm) were installed so that the picture was more clear. 

In 1573, Danti suggested that a concave mirror could be used to correct an inverted image. After this, the camera obscura was not only used by artists and map makers to create artworks with colors.  but it also became a means of entertainment by magicians. But its size was so big that it was not easy to carry it from one place to another.  In 1620 J.  An astronomer named Kelper (J. Kelper) drew a sketch of a camera obscura that could be moved from one place to another.  Improving this further, in 1676 J. Strum installed a mirror at an angle of 45 degrees to the camera obscura. 

In 1685, John Zahn used ground glass in the camera instead of oiled paper for the screen.  Apart from this, special lenses were also used in place of glasses lenses, so that the picture could be seen from outside.  A mirror was also installed in it, due to which the inverted pictures started appearing straight. 

(Camera Obscura Partabilis).  Along with this, the curiosity to stabilize these pictures made of light also started increasing and inventions continued in this direction.  2 Chemical Tests In 1614, Anglo Solo found that silver nitrate turns black due to sunlight.  In 1663, Robert Boyle of England tried to explain how the color of a silver salt solution changes due to the influence of the sun.

In 1725, G.H.  Schulze (G.H. Schulze) made an emulsion of silver nitrate and chalk and applied it to a sheet of metal.  Then a transparent paper was placed on it, on which some words were written, which were opaque.  He put it in the sunlight and due to the light, the colour of the sheet under the opaque part of the words did not change, but the colour of the rest of the sheet changed to black.  By this process, in the year 1777, Charles William Scheele, who was a resident of Sweden, did some experiments with silver chloride, but he did these experiments with colored light. 

Three years later, in the year 1780, the experiment of making a silhouette showing only the outer line by standing a man in front of the light was also used.  These images were made on a paper on which a silver salt solution was applied.  Now the question was how to make such pictures on paper that their colour does not change due to the effect of light.  It was only in the 18th century that Sir John Herschel invented a chemical called sodium thiosulphate, which could stabilize the photo after it was captured with a camera. 

In 1816 Joseph Nicephore Niepce, who was from France, made pictures using a camera on light sensitive paper with the help of silver chloride.  He had some success, but he was not completely satisfied with it, because those images were made like negative and could not be made permanent.  He tried a lot, but he could not succeed in it.  He noticed that by using nitric acid, the picture could be fixed for some time, but it was blurred.      

In 1822, he was successful in making permanent images using the camera Obscura.  Knipes continued with his inventions by exposing the bronze plate to the camera by using vapors of iodine particles heated to darken the silver and accentuate the tone.  Knipes succeeded in copying a picture made of carving.  For this, he entered the light from the original photo on such a mirror, which had Shilajit (Bitumen) on it.  When he washed the plate, he saw that the part was clean, on which the rays of light did not fall.  Thus he made a permanent picture on the plate.  He named this process heliography, which means writing with the sun’s rays.  He made many such holographs. 

Process of Camera Improvement In 1824 Joseph Nicephore Knipes made many improvements to the camera, such as sizing the camera according to the focal length.  He also made many paintings on glass and sheet of metal.  Frederick Scott Archer played a special role in efforts to make a transparent base of negatives with the invention of the wet collodion plate in 1851.  Although the daguerreotype and calotypes system remained in vogue until the 1870s, new inventions also became popular.  These plates had to be made shortly before the photographs were taken, so photographers of the time built mobile laboratories and dark rooms.  Because this plate was very sensitive and it also had good half tones.  Of the many people involved in the invention of photography, Louis Jacques Mande Daguerre is the most famous.  He was a trainee craftsman.  In fact, he often used the camera Obscura to create photographs through colours.  In this way he could make the images permanent.  He heard about the invention made by Nice four and made a contract with him in 1829.  Nice four died in 1883 but Daguerre continued his trials for photography. 

In 1835, Mande Dauer introduced silver chloride and He made a mixture of iodide, which he coated on a metal plate.  He gave this plate a three-hour long exposure to the camera, that is, the light kept falling on that plate for three hours. But the picture formed was unclear. It is said that he put that plate in a cupboard containing his chemicals.  so that he could use it again. After some time, when he suddenly looked at the plate, the picture which he had seen earlier had become quite clear.  It may be due to the chemical process caused by the vapours of mercury.

Thus, the credit of inventing the first developing agent in the field of photography goes to Mande Daguer. He knew how to make a photo, but until 1887, He could not fix the images. He named this new process the Daguerreotype. He published advertisements about his invention and, with the help of a political figure named Francois Aragon, reached the position that the French the government mother a report on her invention Gee. Thus, the invention of photography was announced on January 7, 1889, but its details were publicly announced on August 19, 1839. 

IN HINDI….फोटोग्राफी की विकास यात्रा

फोटोग्राफी का आविष्कार लगभग 160 वर्ष पूर्व किया गया था , परन्तु उसके सिद्धांत उससे भी पुराने हैं , जिनके आधार पर कैमरे से तस्वीर खींचकर रासायनिक प्रक्रिया द्वारा फिल्म से कागज पर फोटो बनाया जा सकता है । यह एक पूर्णतः वैज्ञानिक प्रणाली है , जिसके माध्यम से हम हू-ब-हू वैसी ही तस्वीर बना सकते हैं, जैसे हम अपनी आँखों से देखते हैं। यूनानी ( Greek ) भाषा में फोटो ( Photo ) का अर्थ है प्रकाश और ग्राफ ( Graph ) का अर्थ चित्र ( Sketch ) से है। इस प्रकार , फोटोग्राफी एक ऐसा वैज्ञानिक माध्यम है, जिसके द्वारा हम प्रकाश का प्रयोग करके फोटो तैयार कर सकते हैं। फोटोग्राफी के आविष्कार के इतिहास को हम मुख्यतः चार भागों में बाँट सकते हैं ।

पहला भाग 500 वर्ष ईसा पूर्व से सन् 1815 तक का है । इन वर्षों में जहाँ एक ओर आप्टिकल सिद्धान्तों (Opitical principles ) द्वारा तस्वीर बनाने की प्रणाली को समझने की जिज्ञासा के कारण अनेक तकनीकों की खोज की गई, वहीं दूसरी ओर प्रकाश की किरणों से रासायनिक प्रक्रिया द्वारा तस्वीर बनाने की सम्भावनाओं का भी पता लगाया गया ।

दूसरा भाग सन् 1816 से सन् 1879 तक का है , जब टैल्बोटाइप्स ( Talbotypes ) और इंग्यूराटाइप्स ( Daguerreotypes ) नामक रासायनिक प्रक्रियाओं का आविष्कार किया गया , जिनसे ऐसे कागज का निर्माण हुआ , जिस पर पोजिटिव ( positive ) बनाया जा सकता था। फोटोग्राफी के इतिहास का तीसरा भाग सन् 1880 से सन् 1935 तक का माना जाता है । इन वर्षों में लेन्स , फिल्म , प्रिंटिंग कागज , फोटोग्राफिक एमलशन ( Photographic emulsion ) और अप्राकृतिक रोशनी ( Artificial light ) से फोटो तैयार करने जैसी प्रक्रियाओं का प्रयोग किया गया । सन् 1935 के बाद फोटोग्राफी के आधुनिक युग का आरम्भ हुआ और फोटोग्राफी का विकास बहुत तेजी से होने लगा ।

कैमरा ओबस्क्योरा ( Camera Obsura ) . अरब में ऐसा माना जाता है कि 500 वर्ष ईसा पूर्व से लेकर सन् 1088 तक चीन , यूनान और अरब में अलग – अलग स्तर पर इस बात की जाँच होती रही कि एक छोटे छिद्र में से प्रकाश गुजरने से तस्वीर उल्टी क्यों बनती है । इस प्रकार , फोटोग्राफी के लिए किए जा रहे आविष्कारों में सबसे पहले कैमरे के आविष्कारों की ओर ध्यान दिया गया।

सन् 1030 में अरब के अल्हजन ( Alhazen ) ने एक ऐसे यन्त्र की जानकारी दी , जिसे बाद में कैमरा कहा जाने लगा। उसके द्वारा दिए गए विस्तृत विवरण से ऐसा लगता था कि अरब में उससे पहले भी इस बारे में लोगों को जानकारी थी । सन् 1550 में जी गारडैनों ( G.Gardeno ) ने उस सूक्ष्म छिद्र ( Pin hole ) , जिसमें से प्रकाश के प्रविष्ट होने पर प्रतिबिम्ब उल्टा बनता था , के बदले एक लेन्स का प्रयोग किया । सन् 1558 में नैपलेस ( Naples ) के गियोवानी बटिस्टा ( Giovanni Battista ) ने पहली बार कैमरा ओबस्क्योरा की विस्तृत जानकारी दी और इसे पेंट करने वालों और कलाकारों के लिए महत्त्वपूर्ण बताया क्योंकि वे इस कैमरा द्वारा खींचे गए चित्रों को बना सकते थे । ” कैमरा ओबस्क्योरा एक यूनानी शब्द है , कैमरा ( Kamera ) का अर्थ है । वह चीज, जो ऊपर से चापनुमा ढकी हो ।

आरम्भ में कैमरा ओबस्क्योरा एक डार्क रूम ( Dark room ) या तम्बू की तरह बहुत ही बड़ा डिब्बा था, जिसमें प्रकाश आने के लिए एक सूक्ष्म छिद्र था। इसमें बाद में लेन्स लगा दिया गया और इस छिद्र या लेन्स की दूसरी ओर दीवार पर उल्टी तस्वीर बनने लगी। सन् 1558 में वीन्स ( Venice ) के डैनियल बारबारो ( Daniel Barbaro ) ने दोनों ओर से बाहर की ओर चक्राकार लेन्स ( Biconvex lens ) और एक पतली झिल्ली ( Diaphragm ) लगाए ताकि तस्वीर और साफ नजर आए सन् 1559 में इटली के डेला पोर्टा ( Della porta ) ने उस छिद्र में शीशे के लेन्स को लगाकर उस बाहर की तस्वीर को और साफ बनाने का आविष्कार किया । सन् 1573 में दान्ती ( Danti ) ने सुझाव दिया कि कैमरे में दर्पण ( Concave mirror ) लगाकर उल्टी दिखने वाली तस्वीर को सीधा किया जा सकता है । इसके बाद कैमरा ओबस्क्योरा का प्रयोग न केवल रंगों से कलाकृतियाँ बनाने वाले कलाकारों और नक्शा बनाने वालों द्वारा ही किया जाने लगा , बल्कि यह जादूगरों द्वारा मनोरंजन करने का एक साधन भी बन गया। मगर इसका आकार इतना बड़ा था कि इसे एक जगह से दूसरी जगह ले जाना आसान नहीं था।

सन् 1620 में जे.केल्पर(J. Kelper) नामक एक खगोलवेत्ता ने एक ऐसे कैमरा ओबस्क्योरा का रेखाचित्र बनाया, जिसे एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जा सकता था। इसमें और सुधार करते हुए सन् 1676 में जे.स्ट्रम(J. Strum ) ने कैमरा ओबस्क्योरा में 45 डिग्री के कोण पर एक दर्पण लगाया। सन् 1685 में जान जेहन ( Johann Zahn ) ने स्क्रीन के लिए तेल वाले कागज के बदले कैमरे में धुँधले शीशे ( Ground glass ) का प्रयोग किया । इसके अतिरिक्त , चश्मे के लेन्स के बदले खास किस्म के लेन्स का भी प्रयोग किया गया , जिससे तस्वीर बाहर से देखी जा सकती थी। उसमें दर्पण भी ऐसा लगाया गया , जिससे उल्टी तस्वीरें सीधी नजर आने लगीं। इसे कैमरा ओबस्क्योरा पारटैबिलीस ( Camera Obscura Partabilis ) कहा जाता था । इसके साथ ही प्रकाश से बने इन चित्रों को स्थिर करने की जिज्ञासा भी बढ़ने लगी और इस दिशा में आविष्कार जारी रहे। रासायनिक परीक्षण सन् 1614 में एंग्लो सोलो(Angelo Solo) ने पाया कि सूर्य के प्रकाश के कारण सिल्वर नाइट्रेट(Silver nitrate) का रंग काला हो जाता है।

सन् 1663 में इंग्लैंड के रोबर्ट बोयल(Robert Boyle) ने यह बताने का प्रयत्न किया कि किस प्रकार सूर्य के प्रभाव से चाँदी के लवण के घोल(Silver salt solution) का रंग बदलता सन् 1725 में जी.एच. शुल्ज(G.H. Schulze) ने सिल्वर नाईट्रेट और चॉक का एक तरल पदार्थ(Emulsion) बनाया और उसे धातु की शीट पर लगा दिया। फिर उस पर एक पारदर्शी कागज रखा, जिस पर कुछ शब्द लिखे थे, जो अपारदर्शी थे। उसने इसे सूर्य के प्रकाश में रख दिया और प्रकाश के कारण शब्दों वाले अपारदर्शी भाग के नीचे शीट का रंग नहीं बदला , परन्तु शेष शीट का रंग बदल कर काला हो गया । इसी प्रक्रिया से सन् 1777 में चार्ल्स विलियम शैली (Charles William Scheele ) जो स्वीडन का रहने वाला था , ने सिल्वर क्लोराईड ( Silver chloride ) के साथ कुछ प्रयोग किए परन्तु उसने यह प्रयोग रंगीन प्रकाश से किए । तीन वर्ष बाद सन् 1780 में प्रकाश के आगे मनुष्य को खड़ा करके केवल बाहरी रेखा दिखाने वाला ( Silhouette ) चित्र बनाने का प्रयोग भी किया गया। इन प्रतिबिम्बों को एक ऐसे कागज पर बनाया गया जिस पर चाँदी के लवण का घोल(Silver salt solution) लगाया गया था ।

अब प्रश्न यह था कि ऐसी तस्वीरों को कागज पर कैसे बनाया जाए कि रोशनी के प्रभाव के कारण उनका रंग न बदले । 18 वीं शताब्दी में ही सर जॉन हर्शल(Sir John Herschel ) ने सोडियम थायोसेल्फेट ( Sodium thiosulphate ) नामक रसायन का आविष्कार किया, जिससे फोटो को कैमरे से खींचने के बाद स्थिर किया जा सकता था। सन् 1816 में जोसफ नाइसफोर नाइप्स ( Joseph Nicephore Niepce ) , जो फ्रांस का रहने वाला था, ने सिल्वर क्लोराइड की सहायता से प्रकाश के प्रति संवेदनशील कागज पर कैमरे का प्रयोग करके चित्र बनाए । उसे कुछ सफलता मिली , परन्तु वह इससे पूरी तरह से सन्तुष्ट नहीं था , क्योंकि वे चित्र नेगेटिव की तरह ही बने थे और उन्हें स्थायी ( Permanent ) नहीं बनाया जा सकता था । उसने काफी प्रयास किया , परन्तु वह इसमें सफल नहीं हो सका । उसने देखा कि नाइट्रिक ऐसिड का प्रयोग करने से चित्र कुछ देर तक तो स्थायी किया जा सकता है , परन्तु वह धुंधला हो जाता है।

सन् 1822 में वह कैमरा ओबस्क्योरा के प्रयोग से स्थायी चित्र बनाने सफल हो गया । नाइप्स ने अपने आविष्कारों को जारी रखते हुए कांस्य लगी प्लेट को कैमरे में एक्सपोज करने के बाद गर्म किए हुए आयोडीन के कणों के वाष्प को चाँदी का रंग गहरा और टोन्स के अन्तर को अधिक करने के लिए प्रयोग किया । नाइप्स नक्काशी से बनी एक तस्वीर की नकल बनाने में सफल हो गया । इसके लिए उसने मूल ( Original ) फोटो में से प्रकाश को ऐसे शीशे पर प्रविष्ट किया , जिस पर शिलाजीत ( Bitumen ) लगी थी । उसने जब प्लेट को धोया तो देखा कि वह भाग साफ हो गया था , जिस पर प्रकाश की किरणें नहीं पड़ी थीं । इस प्रकार उसने प्लेट पर स्थायी चित्र बनाया । उसने इस प्रक्रिया का नाम हैल्योग्राफी ( Heliography ) रखा , जिसका अर्थ है सूर्य की किरणों से लिखना। उसने ऐसे अनेक हैल्योग्राफ बनाए। कैमरे में सुधार की प्रक्रिया सन् 1824 में जोसफ नाइसफोर नाइप्स ने कैमरे में कई सुधार किए, जैसे फोकल लेन्थ के हिसाब से कैमरे का आकार बनाना। उसने शीशे और धातु की शीट पर भी कई चित्र बनाए।

फ्रैड्रिक स्कॉट आर्चर ( Frederick Scott Archer ) ने सन् 1851 में गीली क्लोडियन प्लेट ( Wet collodion plate ) के आविष्कार के साथ नेगेटिव का पारदर्शी आधार बनाने के लिए किए जा रहे प्रयासों में एक विशेष भूमिका निभाई । इन प्लेटों को फोटो खींचने से कुछ समय पहले ही बनाना पड़ता था, इसलिए उस समय के फोटोग्राफरों ने चलती-फिरती प्रयोगशालाएँ और डार्क रूम बनाए। क्योंकि यह प्लेट बहुत ही संवेदनशील थी और इसके अच्छे हॉफ टोन भी बनते थे। फोटोग्राफी के आविष्कार में जुटे अनेक लोगों में से लुईस जेक्यूस माण्डे डेंग्यूर ( Louis Jacques Mande Daguerre ) ही सबसे अधिक प्रसिद्ध है । वह प्रशिक्षु शिल्पकार था । वास्तव में वह अक्सर कैमरा ओबस्क्योरा का प्रयोग करके रंगों के माध्यम से तस्वीरें बनाया करता था । इस प्रकार वह प्रतिबिम्बों को स्थायी बना सकता था । उसने नाइसफोर द्वारा किए गए आविष्कार के बारे सुना और सन् 1829 में उससे एक अनुबन्ध किया ।

सन् 1883 में नाइसफोर का निधन हो गया परन्तु डैग्यूर ने फोटोग्राफी के लिए अपने परीक्षण जारी रखे । में माण्डे डैग्यूर ने सन् 1835 में सिल्वर क्लोराइड ( Silver chloride ) और आयोडाइड ( Iodide ) का एक मिश्रण बनाया , जिसे उसने धातु की एक प्लेट लेप दिया । इस प्लेट को उसने कैमरे में तीन घंटे लम्बा एक्सपोजर ( Exposure दिया , यानी कि उस प्लेट पर कैमरे में तीन घंटे तक प्रकाश पड़ता रहा । परन्त जो तस्वीर बनी वह अस्पष्ट थी । ऐसा कहा जाता है कि उसने उस प्लेट को अपनी रसायनों वाली एक अलमारी में रख दिया ताकि वह फिर कभी उसे दोबारा प्रयोग कर सके । कुछ समय बाद जब उसने अचानक उस प्लेट को देखा , उसे जो तस्वीर पहले अस्पष्ट नजर आई थी , काफी स्पष्ट हो चुकी थी । सोच – विचार के बाद उसे लगा कि ऐसा साथ में पड़े पारे के वाष्पकणों से हुई रासायनिक प्रक्रिया से हो सकता है । इस प्रकार फोटोग्राफी के क्षेत्र में पहले डेवैल्पिंग एजेन्ट ( Developing agent ) का आविष्कार करने का श्रेय माण्डे डैग्यूर को ही जाता है ।

उसे मालूम था कि फोटो कैसे बनेगी , परन्तु सन् 1887 तक वह प्रतिबिम्बों को स्थिर नहीं कर पाया था । उसने इस नई प्रक्रिया का नाम डेग्यूरोटाइप ( Daguerreotype रखा । उसने अपने आविष्कार के बारे में विज्ञापन प्रकाशित करवाए और फ्रेनकोस एरागो ( Francois Arago ) नामक एक राजनीतिक व्यक्ति की सहायता से इस स्थिति पर पहुँचा कि फ्रांस की सरकार ने उसके आविष्कार पर एक रिपोर्ट माँगी । इस प्रकार फोटोग्राफी के आविष्कार की घोषणा 7 जनवरी, 1889 को की गई , परन्तु इसका विवरण 19 अगस्त, 1839 को सार्वजनिक तौर पर घोषित किया गया।

READ MORE….

1 thought on “The Development of Photography”

  1. Pingback: globlisation and challenge of hindi language

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.
%d bloggers like this: