MI VS LSG IPL

टाटा आईपीएल 2022 के सुपर संडे में आज एक ही मुकाबला है। इस सीजन का 37वां मैच वानखेड़े स्टेडियम में शाम के साढ़े सात बजे से मुम्बई और लखनऊ के बीच खेला जाएगा।

मुम्बई इंडियंस लगातार 7 हार के साथ लगभग प्लेऑफ से बाहर हो चुकी है। हालांकि, आज जब वे LSG के खिलाफ उतरेंगे तो उनके पास जीत हासिल करने का एक कारण होगा। टीम के मेंटर और पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर का आज जन्मदिन है और उनके प्लेयर उनके जन्म दिन पर इस सीजन की पहली जीत उपहार में दे सकते हैं। लेकिन पांच बार चैंपियन रही MI का इस सीजन बहुत बुरा हाल है ऐसे में कोई चमत्कार ही इस टीम को बचा सकता है। वहीं LSG ने इस सीजन कुल 7 मैच खेले हैं और जिसमें से उसे 4 में जीत और 3 में हार प्राप्त हुई है ऐसे में LSG प्लेऑफ के रेस में अभी-भी बनी हुई है।

मुम्बई के हर खिलाड़ी को करना होगा पूर्ण समर्पण

मुम्बई ने इस बार आईपीएल के मेगा ऑक्शन में बहुत बड़ी गलती कर दी है। जिसका खामियाजा उसने अभी तक खेले गए 7 के 7 मैचों में हार का सामना कर के किया है। MI को अगर हार्दिक को रिटेन नही करना था तो उनके जगह पर किसी और आल राउंडर को खरीदना था। ट्रेंट बोल्ट के लिए MI ने बोली लगाना भी मुनासिब न समझा, जिससे बुमराह फ़ास्ट बॉलिंग डिपार्टमेंट में अकेले पड़ गए। राहुल चहर के बदले में टीम में कोई और उनकी जगह लेते हुए नही दिख रहा।

MI के लिए ओपनर्स सबसे बड़ी चिंता का विषय

इस सीजन मुम्बई ने बेशक टुकड़ो में प्रदर्शन किया हो पर मैच को जीतने के लिए उन्हें एक यूनिट की तरह काम करना होगा। ठीक उसी तरह जैसे कल 36वें मुकाबले में SRH ने RCB के खिलाफ किया। ऐसा न कर पाने के वजह से टीम को लगातार 7 मैचों के हार की बदनामी सहनी पड़ रही है। मुम्बई के लचर प्रदर्शन का जिम्मेदार MI के ओपनर है क्योंकि किसी भी टीम के जड़ के रूप में ओपनर ही मुख्य तत्व होते हैं। जब ओपनर ही नहीं चलेंगे तो बाकी टीम का धरासाई होना लगभग तय ही है।

2018 से ही रोहित का फॉर्म कुछ खास नहीं रहा था पर उसकी भरपाई अन्य खिलाड़ी कर दिया करते थे। लेकिन, इस सीजन जब बाकी खिलाड़ी अपने बल्ले से खास नहीं कर पा रहें हैं तो रोहित की नाकामी खुलकर सामने प्रकट हो रही है।

लखनऊ का लाजवाब प्रदर्शन

LSG के कप्तान बेशक आईपीएल से पहले फॉर्म में न चल रहे हों पर गौतम गंभीर के मेंटर में केएल राहुल का शानदार खेल रहा है। उन्होंने अभी तक 7 मैचों में 142 के स्ट्राइक से 265 रन बनाए हैं। वही ऑक्शन के दौरान लखनऊ ने आयुष बदोनी जैसे युवा को अपने टीम में शामिल किया। बदोनी मध्यक्रम में आकर तेजी से रन बनाने में सक्षम हैं। इसी के साथ लखनऊ एक यूनिट की तरह मैच को खेल रही है जिससे GT की टीम पूरे जोस में है। ऐसे में एक अच्छा मुकाबला देखने को मिल सकता है।

पिच का हाल क्या है…

वानखेड़े स्टेडियम में शुरुआती कुछ मैचों में बहुत अधिक रन बनाते हुए नहीं देखा गया पर यहां पिछले दो गेम उच्च स्कोरिंग रहे हैं। RCB ने DC के खिलाफ 189/5 रन बनाए, जबकि आरआर ने DC के खिलाफ ही आईपीएल के इस संस्करण में 222/2 रन जड़ दिए। इस फील्ड पर पहले बल्लेबाजी करने वाली टीमों ने दोनों मैच जीते।

क्या आप जानते हैं?

  • 5 मई 2019 के बाद वानखेड़े स्टेडियम में LSG के खिलाफ MI का पहला मैच होगा।
  • इस फील्ड पर MI के जीत का प्रतिशत 62.7 है।
  • ईशान किशन ने इस सीजन के पहले दो मुकाबले में 148.35 के स्ट्राइक रेट से 135 रन बनाए। पर उसके बाद खेले उन्होंने 5 मैचों में 76.71 के औसत से केवल 56 रन ही बनाए हैं।
  • LSG ने अपने तीन नंबर के बल्लेबाज के लिए संघर्ष किया है। मनीष पांडे का 38 रन MI के खिलाफ सबसे अधिक है जबकि अगला सर्वोच्च स्कोर एविन लुईस का 10 रन GT के खिलाफ है।

By Admin