मां पार्वती ने जिस स्थान पर भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की थी वह जगह गौरीकुंड है। जोकि केदारनाथ के समीप है। गौरीकुंड एक प्रसिद्ध तीर्थ है, जोकि उखीमठ से 28 किलोमीटर और सोनप्रयाग से 5 किलोमीटर की दूरी पर समुद्र तल से 1982 मीटर की ऊंचाई पर, देवभूमि उत्तराखंड में, रुद्रप्रयाग जिले में मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित है।

ऐतिहासिक दृष्टि से गौरीकुंड प्राचीन काल से विद्यमान है। यहां से केदारनाथ मंदिर की दूरी 14 किलोमीटर है।

इस स्थान से केदारनाथ के लिए पैदल रास्ता प्रारंभ होता है। गौरीकुंड की खूबी यह है कि यहां का पानी सर्दी में भी गर्म रहता है। तपस्या पूरी होने के बाद गुप्तकाशी में देवी पार्वती ने भगवान शिव के सामने विवाह का प्रस्ताव रखा था। जब भगवान शिव ने विवाह के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया तब देवी पार्वती के पिता, हिमालय ने विवाह की तैयारियां शुरू कर दी और उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में भगवान शिव और मां पार्वती का विवाह हुआ।

By Admin