इवेंट को हिंदी में आयोजन कहते हैं ,यह आयोजन छोटा-से-छोटा व बड़ा-से-बड़ा हो सकता है। इसके अंतर्गत बर्थडे पार्टी , एनुअल सेलिब्रेशन, फैशन समारोह, शिक्षा समारोह, राजनीतिक समारोह या रैलियां आदि आते हैं।पर जब इवेंट आधारित मीडिया सामग्री की बात करते हैं तो, इसका तात्पर्य ऐसे सामग्री से है जहाँ मीडिया के प्रकाशित और प्रसारित करने की शैली इवेंट के आधार पर होती है।

इवेंट आधारित मीडिया कार्यक्रम अक्सर तब आयोजित किए जाते हैं जब कोई संगठन या संस्थान चाहता है कि वह सीधे लक्षित समूहों, लाभार्थियों, कर्मियों आदि से सीधे रूप से मिले, और कई दफा प्रेस के सदस्य उस संस्थान के घोषणा को एक साथ प्राप्त कर सकें ताकि उनमें कोई पूर्वलोकन न हो। इनपर्सन इवेंट्स में इंटरव्यू, पूछताछ और शो-एंड-टेल शामिल हो सकते हैं। ये संगठन सरकारी और गैर सरकारी दोनों हो सकते हैं।

इवेंट्स आधारित मीडिया सामग्री के विविध रूप

  1. कॉरपोरेट इवेंट्स
  2. एंटरटेनमेंट इवेंट्स
  3. सोशल इवेंट्स
  4. पोलिटिकल इवेंट्स
  5. अन्य इवेंट्स

1) कॉर्पोरेट इवेंट्स:- कॉर्पोरेट इवेंट लोगों का जमावड़ा है और इसका आयोजन व्यवसाय के मालिकों के द्वारा किया जाता है। आमतौर पर व्यवसाय के मालिक अपने कर्मचारियों, ग्राहकों, व्यावसायिक भागीदारों हाथ के लिए इस तरह का आयोजन को प्रायोजित करते हैं। इस तरह के आयोजन के माध्यम से, व्यवसाय के मालिक अपने व्यवसायिक विचारों और कर्मचारियों को आदर्श वाक्य घोषित करते हैं। आज, इस प्रकार का कॉर्पोरेट आयोजन लोगों के लिए बहुत परिचित शब्द बन गया है। इसके अंतर्गत:- प्रोडक्ट लांच, प्रदर्शनी, शेयर, होल्डर, एम्प्लॉई गेट टूगेदर, प्रेस कॉन्फ्रेंस आते हैं।

2) मनोरंजक परक आयोजन:- ये कार्यक्रम एक मनोरंजन परक कार्यक्रम होते हैं। इसके अंदर लोगों को मनोरंजन से भरपूर कार्यक्रम दिखाये जाते हैं। ज्यादातर यह कार्यक्रम तनाव ग्रस्त लोगों को जिंदगी में दोबारा रस्त लाने के लिए आयोजित किए जाते हैं। इसके अंतर्गत सेलिब्रिटी इवेंट्स जिसमें कोई सेलिब्रिटी स्टेज पर आकर लोगों का मनोरंजन करता है, म्यूजिकल इवेंट्स, अवार्ड शो इवेंट्स जैसे iifa award, filmfare award और कल्चरल इवेंट्स जिसके अंतर्गत लोक नृत्य, लोक कथाएं आते हैं।

3) सामाजिक आयोजन;- जहाँ दोस्त, परिवार, किसी फंक्शन में एक साथ सम्मिलित होते हैं सोशल इवेंट्स कहलाते हैं। इसके अंतर्गत वेडिंग इवेंट्स, बर्थडे पार्टी, फैमिली गेट टुगेदर पार्टी आदि आते हैं। उदाहरण के लिए धार्मिक आयोजन करना जिसमें एक धर्म के लोग एक साथ आकर भाग लेते हैं।

4) राजनीतिक इवेंट्स:- वैसे तो राजनीतिक आयोजन बड़ा बोरियत वाला होता है पर इसके अंतर्गत मुख्यता राजनीतिक पार्टियों की योगदान को जनता के बीच में बढ़ाने से, देखा जा सकता है। इसके अंतर्गत राजनीतिक रैलीयां, राजनीतिक भाषण, राजनीतिक कैंपेन आदि आते हैं। उदाहरण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बंगाल के चुनाव के दौरान नंदीग्राम में उनके द्वारा मई में की गई रैली और भाषण।

5) अन्य आयोजन:- यह आयोजन ऐसे आयोजन होते हैं जो मीडिया के सामग्री के लिए ज्यादा आवश्यक नहीं होते पर कभी-कभी विशेष कार्यक्रमों के दौरान उन्हें कवर किया जाता है। इसके अंतर्गत माल प्रमोशन, फूड मेला, कॉलेज इवेंट्स( ये कॉलेज पर निर्भर करता है), थिएटर शोज, धार्मिक सम्मेलन आदि आते हैं। उदाहरण के लिए प्रगति मैदान में लगने वाला बुक फेयर।

निष्कर्ष

इवेंट्स आधारित मीडिया कार्यक्रम के सामग्री के अंतर्गत मीडिया पहले ही होमवर्क कर लेती है कि उसे किसी निश्चित इवेंट्स में क्या खबर करना है और किससे किस प्रकार के सवाल पूछने इसमें उनके सवाल इवेंट्स के आधार पर होते हैं। होमवर्क करने से इवेंट्स के संदेश में त्रुटि होने की संभावना कम हो जाती।

By Admin