विश्व मे टेलीविजन का इतिहास

  • W3XK, चारलेस फ्रेंचिस जेन्किस ने जुलाई 2, 1928 को पहला व्यापारिक लाइसेंस्ड टेलीविज़न स्टेशन यूनाइटेड स्टेट में बनाया ।
  • 1936 में बर्लिन में हुए समर ओलंपिक का पहली बार सीधा प्रसारण किया गया टेलीविजन पर, यह खेल समारोह का पहला मौका था जहाँ खेल को टीवी पर सीधा प्रसारित किया गया हो।
  • वर्ष 1939, मई 17 को अमेरिका के एक कॉलेज में बेसबॉल गेग का आयोजन कोलंबिया और प्रिंसटन के मध्य हुआ था, यह अमेरिका का पहला खेल समारोह था जिसे टीवी पर प्रसारित किया गया था।
  • जॉन बेयर्ड को आधिकारिक रूप से टेलिविज़न का जनक माना जाता है।
  • 1936 में ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कारपोरेशन(BBC) ने दुनिया की पहली टेलीविजन सेवा को प्रारम्भ किया।
  • 1939 तक टेलिविजन प्रसारण संयुक्त राज्य अमेरिका में भी शुरू हो गया।( द्वितीय विश्वयुद्ध का प्रारंभ जिसके अंतर्गत टेलेविज़न के विकास में रुकावट आयी पर द्वितीय विश्वयुद्ध के खत्म होने के बाद एक बार फिर से इसमें तेजी आई)।
  • टीवी के शुरुआती दौर में कैथोड रे ट्यूब(CRT) का प्रयोग होता था जो की बहुत मोटा और भारी होता था। इसके बाद LCD तकनीक प्रचलन में आया और अब वर्तमान में LED तकनीक अपने सर्वोत्तम विकसित रूप में हमारे सामने है।
  • 1950 में बृहद पैमाने पर अन्य देशों में भी टेलेविज़न का प्रसारण शुरू हुआ।
  • प्रारंभिक टेलेविज़न प्रसारण मात्र श्वेत-श्याम था।
  • 1953 में USA के कोलंबिया ब्रॉडकास्टिंग सिस्टम (CBS) ने पहला सफल रंगीन कार्यक्रम प्रसारित किया।
  • 1955 में Eugene Polley द्वारा वायरलेस टीवी के रिमोट का, अविष्कार हुआ।
  • “तस्वीर के साथ रेडियो” माने जाने वाले इस माध्यम ने अपनी अनूठी शैली विकसित कर ली है।
  • 1950s के बाद के 2 दशक को टेलेविज़न के लिए “स्वर्णिम युग” कहा जा सकता है।

भारत में टीवी का विकास

भारत मे टीवी के शुरुआती दौर में भारत के लिए उपयोगी नहीं माना जा रहा था क्योंकि इसकी लागत बहुत ज्यादा थी जिसके निर्वहन के लिए भारत उस समय सक्षम नहीं था। पर तमाम अड़चनों के बाद भी विभिन्न विशेषज्ञों और आकाशवाणी के इंजीनियरों से इसे समझना और जानना शुरू किया। भारत मे टेलेविज़न का प्रारम्भ 1959 में एक प्रायोगिक तौर पर शुरू किया गया था। टेलेविज़न प्रसारण की यह ‘ऑल इंडिया रेडियो’ के अंतर्गत प्रारम्भ हुआ। भारत मे जो पहला टेलेविज़न ऑडिटोरियम बना , वह आकाशवाणी भवन के पांचवे मंजिल पर था। इसका उदघाटन राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने किया था।

भारत मे टेलेविज़न बेशक ऑल इंडिया रेडियो के तहत शुरू हुआ हो पर इसका लव यूनेस्को ने 1956 में एक सम्मेलन के आयोजन के दौरान पहले ही रख दिया था जिसका मकसद अन्य विकासशील देशों जैसे भारत में टेलेविज़न का बढ़ावा देना था।यूनेस्को ने भारत सरकार को इसमें आर्थिक सहायता प्रदान की जिसके बाद भारत मे टीवी के आगमन का रास्ता साफ हो गया। इसको आगे बढ़ाने में Philips कंपनी ने भी अपना योगदान दिया जिसने भारत को प्रसारण के लिए Transmitter उपलब्ध करवाया।

इस प्रशासन सेवा के डायरेक्टर शैलेन्द्र शंकर, डिप्टी चीफ प्रोड्यूसर पी. एल देश पांडेय और प्रोड्यूसर शिवेंद्र सिंहा थे।

भारत में टेलीविज़न के प्रारंभिक काल मे सप्ताह में 2 बार एक-एक घंटे के कार्यक्रम प्रसारित किया जाता था। हम आपको एक बार फिर बता दे कि भारत मे टेलीविज़न कार्यक्रमों की शुरुआत प्रायोगिक तौर पर हुई थी। जिसके अंतर्गत सामान्यतः स्कूल के बच्चो तथा कृषकों के लिए शैक्षिक कार्यक्रम चलाए गए थे। इस समय जो टीवी सेट लगाए गए थे वो दिल्ली के ग्रामीण क्षेत्रों और आसपास के 25 किमी क्षेत्र तक की पहुँच तक लगाए गए थे।

Advertisements

1970 तक् देश के अन्य हिस्सों में भी टेलेविज़न केंद्र खुलने प्रारम्भ हो गए थे और 1976 में “दूरदर्शन” जो कि अभी तक “ऑल इंडिया रेडियो” का अंग था, एक अलग विभाग के रूप में स्थापित कर दिया गया।

एस. आई. टी.इ(SITE):- सैटेलाइट इंस्ट्रक्शनल टेलीविज़न एक्सपेरिमेंट टीवी के उपयोग और विकास हेतु एक महत्वपूर्ण घटना है। इस समय (1975-76) कार्यक्रमों का निर्माण दूरदर्शन द्वारा किया जा रहा था जो कि AIR का ही उस समय अंग था। इस उपयोग के तहत कार्यक्रम दिन में दो बार , सुबह तथा शाम को प्रसारित किए जाते थे। इसके लिए निम्न विषय चयनित थे:- कृषि संबंधी सूचना, स्वास्थ्य और परिवार नियोजन। इसके अलावा नृत्य ,संगीत, नाटक, लोक तथा ग्रामीण कला के रूप में मनोरंजन कार्यक्रम भी शामिल किए गए थे।

यह एक्सपेरिमेंट अगस्त 1975 से जुलाई 1976 के बीच संचालित किया गया। इस कार्यक्रम में अमेरिकी उपग्रह ATS(ए. टी. एस) – 6 का उपयोग भारत के गावों में शैक्षणिक कार्यक्रमों के प्रसारण के लिए किया गया था। इस प्रयोग के लिए 6 राज्यों का चुनाव किया गया और वहाँ सामुदायिक टीवी सेट को चलाया गया।

भारत टीवी के इतिहास में महत्वपूर्ण घटना 1982 में घटित हुई, जब टीवी पर नौवें एशियाई खेलों का आयोजन प्रसारित किया गया। जहाँ पहली बार दूरदर्शन ने भारतीय उपग्रह इनसेट – 1ए के माध्यम से राष्ट्रीय प्रसारण किया। पहली बार ही यह प्रसारण रंगीन हुआ। ऐसे में बाद के समय मे कई देशों के कार्यक्रमों को भी दूरदर्शन ने सम्मिलित किया। भारत मे रंगीन कार्यक्रमों का प्रसारण श्रीमती इंदिरा गांधी के द्वारा 15 अगस्त 1982 के लाल किला के स्पीच के साथ ही शुरू हो गया था और 1982 में ही दूरदर्शन के सजीव क्रीड़ा कार्यक्रमो में वृद्धि भी देखी गयी।

1983 में सरकार ने टीवी कार्यक्रमों के वृहद स्तर के विस्तार के लिए ‘दूरदर्शन’ को स्वीकृति दे दी। जिसके तहत टीवी ट्रांसमीटर की संख्या में भारी वृद्धि हुई।

80 के दशक के खत्म होते होते इन ट्रांसमीटरों की पहुँच 75 प्रतिशत जनसंख्या तक हो गई। उस समय के अनेक कार्यक्रम जैसे हमलोग, बुनियाद, नुक्कड़ बेहद ही लोकप्रिय हुए।

1997 में प्रसार भारती की स्थापना की गई जिसके अंतर्गत दूरदर्शन और आकाशवाणी दोनों विभाग आते हैं। आज दूरदर्शन के अंतर्गत 30 से भी ज्यादा चैनल आते हैं। लोकसभा चैनल भी इसी के अंतर्गत आता है। ज्ञानदर्शन दूरदर्शन का एक शैक्षिक चैनल है।

उपग्रह- ऐसे ग्रह जो मानव द्वारा निर्मित किए जाते हैं और उनका प्रयोग अपने लाभ के लिए, अंतरिक्ष मे स्थापित करता है। 

CNN (अमेरिकी समाचार न्यूज़ एजेंसी) द्वारा वर्ष 1990 में खाड़ी युद्ध के समय, उसके द्वारा किये गए प्रसारण ने टीवी के लिए मार्ग और साफ कर दिया।

हांगकांग आधारित STAR(सैटेलाइट टेलेविज़न एशियन रीजन, स्टार) ने भारतीय कंपनी से अनुबंध करके जी टीवी को जन्म दिया। जी टीवी निजी स्वामित्व का पहला हिंदी उपग्रह बना। कंपनी के बीच जब समझौता टूटा तो वे स्टार और जी दो अलग-अलग चैनल के रूप में सामने आए।

1995 में सर्वोच्च न्यायालय का आदेश आया कि “वायु तरंगों पर भारत सरकार का एकाधिकार नहीं हो सकता है।” ऐसे में क्षेत्रीय चैनलों का विकास भी बहुत ही तेजी से हुआ जिसके अंतर्गत सनटीवी(तमिल), एशियानेट(मलयालम) आदि चैनल सामने आए।

इन स्वदेशी चैनलों के अलावा CNBC, BBC, DISCOVERY जैसे आदि INTERNATIONAL चैनल भी आए।

वर्तमान समय में भारत मे लगभग 1028 रजिस्टर्ड सैटेलाइट चैनल हैं, जिनकी संख्या सरकार के फैसले के अनुसार घटती और बढ़ती रहती है।

वर्ल्ड टेलीविज़न डे – 21 नवंबर 1996 से शुरू (इसी दिन टीवी फॉरम की स्थापना)

कुछ महत्वपूर्ण निजी टीवी चैनल

आज तक – आरंभ 31 दिसंबर 2000

ज़ी न्यूज़ – आरंभ 1999 में

NDTV(NEW DELHI TELEVISION LTD) – आरंभ 1984 में

Abp news – भूतपूर्व star news(1998 से 2012 तक), आरंभ 1998

By Admin

4 thought on “टेलीविजन का इतिहास भारत के संदर्भ में”

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.