महाभारत

महाभारत की कहानी पूरी तरह से कौरवों और पांडवों पर आधारित हैं और उनके बीच हुए युद्ध के बारे में बताती है। महाभारत में कौरव के वंशजों के बारे में बहुत ही कम जानकारी बताई गई हैं। आप में से कई लोगों ने ऐसा पढ़ा होगा कि कौरवों का एक सौतेला भाई था जो कि गांधारी की दासी का बेटा था। हालांकि यह जानकारी अधूरी है। वास्तव में गांधारी ने 101 बच्चों को जन्म दिया था। इनमें से 100 बेटे थे और 1 बेटी थी।

वास्तव में जन्म देने के कई साल पहले, गांधारी ने अपने महल में व्यास की, मेजबानी की थी। उसके आतिथ्य से प्रसन्न होकर व्यास ने गांधारी को सौ पुत्रों को जन्म देने का वरदान दिया था। हालाँकि, जब समय आया तो गांधारी बिना प्रसव के दो साल से अधिक समय तक गर्भवती रही।

अंत में, दो से अधिक वर्षों के लंबे समय के बाद, गांधारी ने एक बड़े मृत मांस के टुकड़े को जन्म दिया। इसे देखकर वह बहुत डर गई और उन्होंने मांस को फेंकने का फैसला किया। लेकिन तब व्यास ने उन्हें आकर रोक दिया था और उन्हें उस मांस को 100 टुकड़ों में काटने और प्रत्येक टुकड़े को अलग अलग बर्तन में रखने के लिए कहा जिसपर गांधारी ने एक बेटी की इच्छा व्यक्त की और इसलिए व्यास ने मॉस को 101 टुकड़े में काटने को कहा। दो साल बाद मांस के टुकड़े मानव बच्चे बन गए और इस तरह 100 कौरव राजकुमारों और एक कौरव राजकुमारी का जन्म हुआ।

राजकुमारी का नाम दुशाला रखा गया था। उसके बारे में ज़्यादा जानकारी मौजूद नहीं है। उन्होंने सिंधु के राजा जयद्रथ से शादी की थी।

Advertisements

By Admin

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.