Nature

 छा चुका है घोर अंधेरा,

मानवता के दरवाजे पर,,

रो रही है पृथ्वी बेचारी,

अपने कर्म के विधानों पर,,

Advertisements

खो दिया है उसने प्रेम सागर,

आज, वर्तमान के लालचियों पर,,

बेरंग कर दिया है मानव ने जिसको,

एक नए लव के चाहत पर,,

Photo credit:- google photo’s

By Admin

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.