Karnataka (कर्नाटक)
  • 1956 में राज्य पुनर्गठन अधिनियम अधिनियम के तहत मैसूर रियासत में कानरा, बीजापुर ,धारवाड़ जिले , मूलबरगा में बेलगांव जिले का बड़ा भाग, पुरानी मद्रास प्रेसिडेंसी मैसेज साउथ कानरा जिला और कुंज का संपूर्ण भाग इसमें मिला लिया गया।
  • देश में तैयार कुल सिल्क में से 85% कर्नाटक में पैदा होता है , कर्नाटक में चंदन का साबुन एवं चंदन का तेल विश्व विख्यात है।
  • कर्नाटक का 60% भूमि कृषि योग्य है , जिसके 72 फ़ीसदी भाग में भरपूर वर्षा होती है जबकि शेष 28 फ़ीसदी में सिंचाई से खेती की जाती है , फसलों में कर्नाटक में राज्य के कुल उत्पादन का 47% होता है।
  • कर्नाटक राज्य का राजकीय पशु हाथी है।
  • कर्नाटक राज्य का राजकीय पेड़ चंदन का पेड़ है।
  • कर्नाटक राज्य का राजकीय फूल कमल है
  • कर्नाटक राज्य का राजकीय पक्षी इंडियन रोलर है।
  • राज्य के सबसे बड़े शहर बंगलुरु, उबली, मंगलौर , मैसूर और हसन है।
  • राज्य की प्रमुख फसलें चावल ,ज्वार ,रागी ,बाजरा, मक्का, गेहूं आदि है।
  • प्राकृतिक दृष्टि से इस राज्य को चार क्षेत्र में बांटा गया है ,पहला समुद्री तट क्षेत्र ,दूसरा मनमाड ,तीसरा उत्तरी मैदान , और चौथा दक्षिणी मैदान।
  • कर्नाटक का नाम उद्भव कुरुनाडू से हुआ है। जिसका अर्थ भव्य भूमि है और यह ईशा चौथी पूर्व ,कर्नाटक महान मौर्य साम्राज्य , का अंग है।

कर्नाटक के राष्ट्रीय पार्क

  • अंशी राष्ट्रीय उद्यान ढाई सौ वर्ग किमी में फैला हुआ है।
  • बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान वर्ग किलोमीटर में फैला प्रोजेक्ट टाइगर का हिस्सा है।
  • बन्नेरघट्टा राष्ट्रीय उद्यान 260 वर्ग किलोमीटर में फैला 10 पशु-पक्षी प्रेमियों का स्वर्ग है।
  • कुदरेमुख राष्ट्रीय उद्यान 600 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ पार्क है।
  • नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान 575 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ राजीव गांधी राष्ट्रीय पार्क है।

कर्नाटक में वन्यजीव अभयारण्य

  • आदिचुंचगिरी वन्यजीव अभयारण्य मोर संरक्षण के लिए है और यहां ढाई सौ पक्षी प्रजाति है।
  • अरबिट्ठोटू वन्य जीव अभ्यारण तेंदुए ,लोमड़ी, जीवो सहित यहां चंदन के पेड़ पाए जाते हैं।
  • बिल गिरी रंगास्वामी वन्य जीव अभ्यारण 215 पक्षियों की प्रजातियों को यहां पाला जाता है।
  • भद्रा वन्यजीव अभयारण्य।
  • ब्रम्हगिरी वन्य जीव अभ्यारण 300 पक्षी प्रजातियों के लिए बनाया गया है यह 181 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है।

By Admin

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.