हेलो दोस्तों मै अभिनव

कहते हैं कि जिंदगी बड़ी होनी चाहिए लंबी नहीं। ठीक वैसे ही थे सुशांत सिंह राजपूत जिन्होंने छोटे से समय मे दिल जीत कर इस दुनिया से विदा ले लिया।और अब जब उनकी आखिरी फ़िल्म दिल बेचारा रिलीज हो गयी है तो एक बार फिर उनके सभी चाहने वालो के आँखों मे आंसू आ गए।जाहिर सी बात है कि ये सुशांत की आखिरी फ़िल्म है और इसे देखते हुए आप को ऐसा कही नही लग सकता कि वो दुनिया से चले गए हैं।

दोस्तों आप इस फ़िल्म को फ़िल्म की तरह नही देख सकते,जहाँ तक मेरा सवाल है मुझे फ़िल्म देखते हुए ऐसा ही लगा क्योंकि कही न कही हम इसमें सुशांत सिंह राजपूत को और उनके जिंदगी को ढूढते हुए चलते हैं।

दिल बेचारा फ़िल्म का निर्देशन मुकेश छाबरा ने किया है जिन्होंने जॉन ग्रीन के नोवेल द फाल्ट इन आवर स्टार पर आधारित यह फ़िल्म बनाई है।जिसके मुख्य किरदार के रूप में सुशांत सिंह और संजना संघी ने manny और kizie के रूप में अपने अभिनय को निभाया है।

Advertisements

फ़िल्म की बात करे तो कहीं कही कुछ गड़बड़ी है पर वो सब कुछ मायने नहीं रखती क्योकि ये मूवी आपको किसी डोर से बांधे रखती है और आपको डेढ़ घंटे तक कहीं नही जाने देती।दोस्तो कहानी की शुरुआत होती है जमशेदपुर से जहाँ kizie basu नाम की एक लड़की होती है जो कैंसर से पीड़ित है और हमेशा नाराज रहती है कि उसके साथ ही ऐसा क्यों हुआ। वही उसे एक दिन बाहर एक लड़का मिलता है manny जो उसकी तरह कैंसर से पीड़ित है पर वो हमेशा खुश रहता है।अब यहाँ से शुरू होती है इनकी प्यार की कहानी। जहाँ kizie गानों, पिक्चरों में अपनी दुनिया ढूढती है वही manny अपने जोक्स, बेतुकी बातों में और रजनीकांत की फिल्मों मेंअपना जीवन ढूढता और खुश रहता है।manny और किजी धीरे धीरे एक दूसरे को समझते हैं और दोनों को ये जानते हुए भी प्यार करने लगते है कि उनकी जिंदगी छोटी है।पर इसके बावजूद वो पेरिस जाते है , फ़िल्म बनाते हैं और लोगों को हँसाते और रुलाते हैं। इसी बीच एक दिन घर आजाने पर manny की तबियत बहुत खराब हो जाती है पर वो रजनीकांत की फ़िल्म को नहीं छोड़ना चाहता और अंत मे सबको छोड़ कर दुनिया से विदा हो जाता है।

अगर फ़िल्म की रेटिंग की बात करू तो IMDb ने इसे दस में से लगभग साढ़े नव स्टार दिए हैं, और मै भी इसे इतने ही स्टार दुंगा।इसके साथ ये भी मैं बता दु कि ये IMDb द्वारा दिए गए सबसे ज्यादा स्टार का रिकॉर्ड है।

अंत मे रिव्यु टीवी की तरफ से सुशांत सिंह राजपूत को श्रद्धांजलि, और आशा करते हैं कि आप जहाँ भी हैं अच्छे से है।

दोस्तों इसी के साथ आप हमें दीजिये इजाज़त मिलते है अगली वीडियो में और हमे कमेंट करके बताइये की आपको दिल बेचारा फ़िल्म कैसा लगा। और हाँ दोस्तों अगर आपको ये रिव्यु अच्छा लगा तो हमारे चैनल को जरूर सब्सक्राइब करिए। धन्यवाद……जय हिन्द।

By Admin

One thought on “जिंदगी का खेल दिल बेचारा”

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.